Kedarnath: 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक जिसकी मान्यता अनूठी है।

Kedarnath के बारे में 5 तथ्य

Kedarnath हिंदू चार धाम यात्रा (तीर्थ यात्रा) में से एक है, और यह उच्च ऊंचाई पर स्थित मंदिरों में से एक है। यह महाभारत के पांडवों द्वारा बनाया गया माना जाता है और जो में मंदिर है वर्तमान मंदिर है उसको आदि गुरु शंकराचार्य द्वारा डिज़ाइन किया गया है।

चलिए जानते हैं इसके बारे में कुछ तथ्य.

  1. जैसा की सब जानते ही हैं की ये मंदिर एक बहुत ही उच्च अलटीटुडे पर स्थित है, यही कारण है की Kedarnath तक इतनी आसानी से पहुंचा नहीं जा सकता। जैसा की सब जानते ही हैं की ये मंदिर एक बहुत ही उच्च अलटीटुडे पर स्थित है, यही कारण है की Kedarnath तक इतनी आसानी से पहुंचा नहीं जा सकता। वास्तव में, केदारनाथ मंदिर परिसर को पानी और चट्टानों से भरने के लिए एक बादल का फटना ही पर्याप्त है। 2013 में, Kedarnath एक बड़ी प्राकृतिक आपदा की चपेट में आ गया था। दुर्भाग्य से, Kedarnath का एक बड़ा हिस्सा बाढ़ के दौरान नष्ट हो गया था हालाँकि इसका असर मंदिर पे इतना नहीं हुआ जितना की उस समय उपस्थित श्रद्धालुओं पे हुआ। फुटेज से पता चलता है कि मंदिर के पीछे एक बड़ी चट्टान आकर रुक गयी थी जिसकी वजह से पानी की भारी बाढ़ धर्मस्थल के दोनों तरफ से निकल गयी।

  1. धार्मिक विद्वानों का मानना है की इस मंदिर पे आपदाओं का कोई खास फर्क नहीं पड़ता, क्योंकि Kedarnath के देवता के रूप में भगवान शिव मंदिर की सुरक्षा कर रहे हैं। हालांकि, इस अवैज्ञानिक विचार प्रक्रिया पर बहुत से लोग सवाल उठाते है क्योंकि 2013 में आपदाओं के दौरान Kedarnath में हजारों लोग मारे गए थे। वो आपदा इतनी भयंकर थी की मंदिर शवों से भर गया था और मंदिर के चरों ओर असंख्य शव पढ़े थे। इसके बाद सरकार को मंदिर का जीर्णोद्धार करना पड़ा।

  1. वैज्ञानिकों और विद्वानों के अनुसार, मलबे के नीचे जमा हुए शवों की वजह से मंदिर नकारात्मक आत्माओं से घिरा हुआ है। उनका सुझाव है कि इस तरह के निकायों से परिसर को साफ किया जाना चाहिए और फिर Kedarnath मंदिर के निर्माण से पहले एक शुद्धिकरण प्रक्रिया करनी चाहिए, जो की 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है।

  1. पांडव कुरुक्षेत्र के महान युद्ध के बाद भगवान शिव की खोज में काशी की यात्रा के लिए निकलते हैं। उनका इरादा युद्ध में हुए सभी पापों से मुक्ति पाने का था। यह जानने के बाद, भगवान शिव एक बैल के रूप में खुद को बदलकर उत्तराखंड आ जाते हैं। पांडवों को यह जानकारी मिलती है और वे काशी से उत्तराखंड की ओर निकल पढ़ते हैं। वहां पहुँच कर उन्होंने भगवन शिव के बैल रूप को पहचान लिया और उनकी पूजा अर्चना शुरू कर दी। वास्तव में, आज की गुप्तकाशी वह जगह है जहाँ पांडवों ने बैल को पाया था। अंत में, वे प्रभु को प्रसन्न करने में सफल होते हैं और मोक्ष प्राप्त करते हैं।

गौरतलब है कि त्रिकोणीय आकार के शिवलिंग को केदारनाथ बाबा के रूप में पूजा जाता है। यह दृढ़ विश्वास है कि यदि आप यहाँ शुद्ध हृदय से प्रार्थना करते हैं तो आपको सभी पापों से क्षमा मिल जाती है और अंत में मोक्ष को प्राप्त होते हैं।

Kedarnath जाने का सबसे अच्छा समय

केदारनाथ जाने के लिए अप्रैल से सितंबर का समय सबसे अच्छा है। हालांकि, यात्रा की योजना बनाने से पहले मौसम की स्थिति की जांच करना बेहतर है।

Kedarnath कैसे पहुँचें

Kedarnath, मंदाकिनी नदी का एक तट है। भले ही अधिकांश दूरी सड़क मार्ग से सुलभ हो, लेकिन अंतिम 14 किमी को पैदल ट्रेक के माध्यम से जाना पड़ता है।

सर्दियों के मौसम में, जलवायु बहुत ही ठंडी होती है। इस मौसम में कोई भी सड़क दिखाई नहीं देती है। इसलिए, केदारनाथ मंदिर साल में छह महीने बंद रहता है। शिवलिंग के अलावा अन्य सभी मूर्तियों को इन 6 महीनों के दौरान ऊखीमठ में रखा जाता है और उनकी पूजा की जाती है।

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें।
भारतीय शेयर बाजार में व्यापार कैसे करें? कैसे और कहाँ से शुरू करें?

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.