Mutual Fund क्या होते हैं? कितना सेफ हैं और कैसे करते हैं इन्वेस्ट?

Mutual Fund, आज कल बहुत ज़्यादा सुना जाने वाला नाम है। लगभग रोज़ ही हम इसके बारे में सुनते हैं। कभी TV पे ऐड कभी किसी newspaper में कोई लेख या कभी किसी मेट्रो में पोस्टर। आखिर है क्या Mutual fund और क्या है इससे लोगों का फायदा? आपने अगर कभी TV पर इसका ऐड देखा हो तो ध्यान दिया होगा की कभी भी किसी कंपनी का नाम नहीं आता है। ऐसा इसलिए क्योंकि हमारी सरकार चाहती है की हम इसमें ज़्यादा से ज़्यादा इन्वेस्ट करें। ऐसा क्यों इस बारे में हम बात करेंगे इस पोस्ट में।

सबसे पहले तो एक मिथ दूर करना चाहूंगा की Mutual Fund में इन्वेस्ट करने के लिए आपको किसी DEMAT Account की ज़रुरत नहीं होती है। Mutual Fund आप अपने नार्मल बैंक अकाउंट से सीधे इन्वेस्ट कर सकते हैं।

क्या होता है Mutual Fund और कैसे काम करता है।

Mutual Fund एक ऐसा इन्वेस्टिंग टूल है जिसमें बहुत सारे इन्वेस्टर्स से पैसा लेकर सारा पैसा एक साथ एक जगह पे इन्वेस्ट किया जाता है। दुसरे शब्दों में Mutual Fund एक प्रकार का वित्तीय वाहन है, जो कई निवेशकों से लिए गए धन के pool से बना होता है, और इस धन को इन्वेस्ट किया जाता है स्टॉक, बॉन्ड, मनी मार्केट इंस्ट्रूमेंट्स और अन्य परिसंपत्तियों में।

किसी भी Mutual Fund कंपनी की वैल्यू उसके द्वारा पता चलता की वो कौनसी और किस तरह की चीज़ों पे इन्वेस्ट करता है। जो कंपनी Mutual Funds बेचती हैं उनको AMC(Asset Manageent Company) कहा जाता है। अगर एक तरह से देखा जाए तो Mutual Fund इन कंपनियों के प्रोडक्ट ही हैं जो ये आम लोगों को दिए जाते हैं। एक कंपनी के बहुत सारे प्रोडक्ट्स होते हैं उसी तरह AMCs के भी बहुत सारे Mutual funds होते हैं।

इन Mutual fund की परफॉरमेंस से ही कंपनी की परफॉरमेंस दिखती है। हर Mutual Fund का एक Fund Manager होता है जो पूरे fund को मैनेज करता है अर्थात ये तय करता है की पैसा कहा लगाना है और कहाँ नहीं। ये Fund Manager वो लोग होते हैं जिनके पास बहुत सालों का अनुभव होता है। हर fund में करोड़ों रुपये होते हैं और रोज़ इन पैसों को अलग अलग जगह पे इन्वेस्ट किया जाता है जो सब Fund Managers की देखरेख में होता है।

क्या होता है Mutual Fund NAV(Net Asset Value)?

हर Fund की अपनी एक NAV होती है। जैसे हर स्टॉक की या किसी वस्तु की कीमत होती है वैसे ही fund की NAV होती है जो की उस Fund की एक यूनिट की कीमत होती है। कोई भी व्यक्ति अगर Fund लेता है तो इसी NAV के तहत उसको यूनिट मिलती हैं।

Mutual Fund के प्रकार:

Mutual Fund को उनके रिस्क के हिसाब से अलग अलग भागों में बांटा गया है:

Open Ended Mutual Fund फंड्स वे fund होते हैं जिनको कभी भी निकाला जा सकता है। अगर आपने कोई Fund लिया है और आपको अगर पैसों की ज़रुरत पड़ती है तो आप पैसा निकाल सकते हैं। अलग अलग funds स्कीम में अलग अलग नियम व शर्तें है पैसा निकालने क लिए। जैसे की अगर आप Equity Fund में से एक साल से पहले अगर पैसा निकालते हैं तो आपको 1% Exit Load देना होता है।

Equity Funds वे फंड्स हैं जिनका 80% AUM(Assets Under Management) स्टॉक मार्किट में इन्वेस्ट होता है। Equity Funds को भी तीन भागों में बांटा गया है:

1.Large Cap Mutual Fund: वे Fund जिनका पैसा बड़ी कंपनियों के शेयर्स में इन्वेस्ट होता है। इन Funds में रिस्क सबसे कम होता है क्योंकि ये सारा पैसा बड़ी बड़ी कंपनियों के शेयर्स में लगाया जाता है। बड़ी कंपनियों के शेयर न जल्दी गिरते हैं और न ही उतनी ही तेज़ी से बढ़ते हैं। इसलिए इनका return भी लिमिटेड ही होता है। इन Funds को साधारणतः Bluechip Funds कहा जाता है।

2.Mid Cap Mutual Fund: ये वो Funds होते हैं जिनका सारा पैसा छोटी और बड़ी दोनों ही कंपनियों में लगाया जाता है। पैसे को इस तरह से इन्वेस्ट किया जाता है की return Large Cap Funds से ज़्यादा मिले। Return large cap Funds से ज़्यादा है इसलिए रिस्क भी ज़्यादा होता है।

3.Small Cap Mutual Fund: ये Fund बहुत ही ज़्यादा aggressive funds माने जाते हैं। इन Funds का पैसा छोटी कंपनियों में या यूं कहें की तेज़ी से बढ़ती हुई नयी कंपनियों में किया जाता है। इन Funds के return या तो बहुत ही अच्छे होते हैं या फिर बहुत ही ख़राब लेकिन अगर आप बहुत लम्बे समय के लिए अगर इस Fund में बने रहें तो बहुत अच्छा खासा return कमा सकते हैं।

Balanced Mutual Fund बहुत ही सेफ funds में आते हैं। इसमें एक स्टॉक कंपोनेंट, एक बॉन्ड कंपोनेंट और कभी-कभी एक सिंगल पोर्टफोलियो में मनी मार्केट कंपोनेंट होता है। आम तौर पर ये फंड स्टॉक और बॉन्ड का निश्चित मिश्रण होता है।

Debt Mutual Fund में फिक्स्ड इनकम इंस्ट्रूमेंट्स, जैसे कॉर्पोरेट और गवर्नमेंट बॉन्ड्स, कॉरपोरेट सिक्योरिटीज, और मार्केट मार्केट इंस्ट्रूमेंट्स आदि में इन्वेस्ट किया जाता है। इस fund को Fixed Income Funds और Bond Funds भी कहा जाता है।

Money Market Mutual Fund वो funds होते हैं ऐसे बांड्स में इन्वेस्ट करते हैं जिनकी maturity 12 महीने से ज़्यादा की नहीं होती और इसलिए बहुत ही सेफ होते हैं।

Closed Ended Mutual Funds वे funds होते हैं जिनको अपनी मर्ज़ी से निकाला नहीं जा सकता। इनको एक अवधी होती है जिसके पूरा होने के बाद ही निकाला जा सकता है।

कितना सुरक्षित हैं Mutual Fund?

ज़्यादातर लोग हर विज्ञापन में आने वाली उस लाइन से डरते हैं जो एकदम लास्ट में बहुत जल्दी जल्दी बोली जाती है: “Mutual Fund निवेश बाजार जोखिमों के अधीन है कृपया स्कीम से जुड़े दस्तावेज़ों को ध्यान पूर्वक पढ़ें”। लेकिन Mutual Funds उतने insecure हैं ही नहीं क्योंकि जितनी भी AMCs हैं उन सबको एक सरकारी संस्था देखती है जो की SEBI(Securities and Exchange Board of India)। SEBI का गठन भारत सर्कार ने 12 April 1992 में किया था जिसका काम सिर्फ Securities और Commodities को देखना और व्यवस्थित रखना है।

Mutual Fund में कैसे इन्वेस्ट करें?

Mutual Fund में दो तरह से इन्वेस्ट किया जा सकता है:

1.Lumpsum: यदि आपके पास मोटा पैसा है तो कोई सा फण्ड चूसे करके उसमें एक साथ सारा पैसा लगा सकते हैं। किसी कंपनी का कोई सा भी Fund आप चूसे कर सकते हैं और उसमें किसी सलाहकार के माध्यम से या फिर कंपनी की वेबसाइट पे जा के सीधे भी आप इन्वेस्ट कर सकते हैं।

2.SIP (Systematic Investment Plan): ये तरीका बहुत जी ज्यादा चलन में और बहुत ही सेफ तरीका माना जाता है। इसमें आप एक Fund लेते हैं और एक साथ उसके लिए पैसा न दे करके हर महीने कुछ पैसे देते रहते हैं। SIP एंटी सुविधाजनक है की आपको इसके लिए कहीं जाना भी नहीं है। न ही पैसे जमा करने के लिए और न ही अपने पैसे निकालने के लिए। सब कुछ ऑनलाइन होने के कारण सब कुछ बहुत आसानी से हो जाता है।

FAQs

क्या Mutual Fund एक अच्छा निवेश है?

सभी निवेशों में कुछ जोखिम होता है, लेकिनMutual Fund को आम तौर पर व्यक्तिगत स्टॉक खरीदने की तुलना में सुरक्षित निवेश माना जाता है। चूंकि वे एक निवेश के भीतर कई कंपनी स्टॉक रखते हैं, इसलिए वे एक या दो व्यक्तिगत शेयरों के मालिक होने की तुलना में अधिक एक साथ बहुत से स्टॉक्स में इन्वेस्ट करते हैं।

Mutual Fund क्या है और यह कैसे काम करता है?

Mutual Fund एक निवेश माध्यम है जो एक सामान्य निवेश उद्देश्य के साथ निवेशकों से धन एकत्र करता है। इसके बाद यह योजना के उद्देश्यों के आधार पर विभिन्न परिसंपत्ति वर्गों जैसे इक्विटी और बॉन्ड में पैसा निवेश करता है। एक परिसंपत्ति प्रबंधन कंपनी (एएमसी) निवेशकों की ओर से ये निवेश करती है।

क्या मैं Mutual Fund से कभी भी पैसे निकाल सकता हूँ?

अधिकांश Mutual Fund तरल निवेश हैं, जिसका अर्थ है कि उन्हें किसी भी समय निकाला जा सकता है। दूसरी ओर, कुछ फंडों में लॉक-इन अवधि होती है। इक्विटी लिंक्ड सेविंग्स स्कीम (ELSS), जिसकी 3 साल की लॉक-इन अवधि है इसी तरह का एक निवेश है।

क्या मैं Mutual Fund में पैसा खो दूंगा?

अगर आप सोच रहे हैं कि क्या Mutual Fund पैसा खो सकते हैं, तो इसका जवाब हां है क्योंकि कुछ Mutual Fund श्रेणियां अधिक अस्थिर हैं। इसका मतलब है, जबकि वे शानदार रिटर्न दे सकते हैं, वे उच्च जोखिम भी दे सकते हैं। यदि आपको लगता है कि आप जोखिम के लिए तैयार नहीं हैं, तो आपको अन्य श्रेणियों के म्यूचुअल फंडों के प्रदर्शन को देखना चाहिए

उम्मीद करता हूँ की Mutual Fund से जुड़े आपके सवालों का कुछ हद तक जवाब मिल ही गया होगा।

अगर आप Stock Market में एक्टिव हैं तो ज़रूर पढ़े ये आर्टिकल: Options Trading?

 

 

4 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.